पौराणिक उत्तरायणी मेले की तैयारियां हुई शुरू, व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। जिलाधिकारी अनुराधा पाल की अध्यक्षता में ऐतिहासिक, धार्मिक व पौराणिक उत्तरायणी मेला 2024 की तैयारियों को लेकर जनपद के जनप्रतिनिधियों, गणमान्य व्यक्तियों, व्यापारियों तथा विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक सम्पन्न हुई।

बैठक में विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर लोगों के सुझाव लिए गए तथा विचार विमर्श किया गया। बैठक में तय किया गया कि इस वर्ष उत्तरायणी मेला 7 दिन कराया जाएगा, जिसका शुभारंभ 14 जनवरी व समापन 20 जनवरी को होगा। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने उच्च न्यायालय का हवाला देते हुए सरयू बगड़ में लगने वाली दुकानो के लिए अन्यत्र स्थान चयनित के लिए भी सुझाव लिए। जिला कार्यालय सभागार में उत्तरायणी मेले की तैयारी सम्बन्धी बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने कहा कि उत्तरायणी मेला बागेश्वर की पहचान है, मेले को शान्तिपूर्वक, साफ एवं स्वच्छ सम्पन्न कराने के लिए सभी का सहयोग होना जरूरी है। मेले की महत्ता को संरक्षित करते हुए इसका आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बागनाथ मन्दिर की सजावट पुष्पों से की जायेगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के इस जिले में 27 जुलाई से दो अगस्त तक स्कूल-कॉलेजों में छुट्टी, आदेश जारी

साथ ही मंदिर परिसर के आस-पास भवनों सहित पुलों को विद्युत मालाओं से सजाया जायेगा। मेले को भव्य रूप देने के लिए पूरी कोशिश की जायेगी ताकि बाहर से आने वाले लोग भी अच्छा संदेश लेकर जाएं। मेले की व्यवस्थाओं पर आपस में विचार विमर्श कर मेले को आकर्षक एवं भव्य रूप देने का पूरा प्रयास किया जाएगा। मेले में स्थानीय कलाकारों को पारम्परिक विधाओं को उजागर करने का मौका मिलना चाहिए तथा झोड़ा, चांचरी, छपेली,स्थानीय सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी प्राथमिकता के साथ होगा। उन्होंने कहा मेले को भव्य एवं आकर्षक बनाने के लिए सभी विभागों द्वारा नुमाईशखेत मैदान में स्टाॅल लगाये जाएंगे। इस दौरान दर्जा राज्यमंत्री शिव सिंह बिष्ट व विधायक पार्वती दास ने उत्तरायणी मेले को भव्य एवं दिव्य बनाने के लिए सभी के सहयोग की अपेक्षा करते हुए सामंजस्य के साथ कार्य करने पर बल दिया।

यह भी पढ़ें 👉  डीएम के निर्देश- लंबे समय से डटे इस विभाग के अधिकारियों के हों स्थानान्तरण

उन्होंने कहा कि यातायात के साथ ही सुरक्षा व्यस्था दुरूस्त की जाय। यातायात व्यवस्था पर उपजिलाधिकारी बागेश्वर/मेलाधिकारी मोनिका ने कहा कि मेला अवधि में कपकोट-भराडी एवं रीमा को संचालित होने वाली वाहन पिण्डारी मोटर मार्ग स्थित टैक्सी स्टैण्ड से, काण्डा की ओर जाने-आने वाले वाहन मण्डलसेरा बाईपास से तथा गरूड को जाने-आने वाले बागेश्वर बस स्टैण्ड से ताकुला की ओर से आने-जाने वाले वाहन ताकुला मोटर मार्ग पेट्रोल पम्प तिराहे से संचालित होती है। बैठक में तय किया गया कि यातायात व्यवस्था इस प्रकार हो कि मेलार्थियों व श्रृद्धालुओं के आवागमन में किसी तरह की अनावश्यक परेशानियों का सामना न करना पडे तथा जाम की स्थिति भी उत्पन्न न होने पाए। सांस्कृतिक झाॅंकियों के संचालन के समय वाहनों का आवागमन बन्द रखेंगे इसके लिए पुलिस विभाग को निर्देश दिये गये।