राज्य में कानून व्यवस्था चुस्त दुरुस्त, हर अपराधी कानून के शिकंजे में: चौहान

ख़बर शेयर करें -

देहरादून। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था चुस्त दुरुस्त है और हर अपराधी कानून के शिकंजे मे आ रहा है। उन्होंने कहा कि लेनदेन को लेकर हुई रंजिश के बाद रायपुर मे हुई घटना को पूरे प्रदेश की कानून व्यवस्था से नहीं जोड़ा जा सकता है। हालांकि मामले मे तीन आरोपी पुलिस हिरासत मे हैं और जल्द ही आरोपी शिकंजे में होंगे। धामी सरकार में अपराधियों को सरंक्षण नहीं बल्कि शिकंजा कसा जाता है। 

चौहान ने कहा कि पहले अपराधियों को सत्ता का सरंक्षण प्राप्त होता था, लेकिन अब कार्यवाही होती है। दूसरे राज्यों से भी बदमाश और माफिया उत्तराखंड में बारदात को अंजाम देने से पहले सोच रहे है। उन्होंने कहा कि सीएम पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस और किसी भी जांच एजेंसी को दबाव मुक्त किया है और वह खुले फैसले तथा रिजल्ट दे रहे हैं। आज प्रोपर्टी पर कब्जा कर धमकाने वाले माफिया सलाखों के पीछे हैं। कानून के शिकंजे में वह लोग भी आये जिन तक पहले की सरकारें सोच भी नहीं सकती थी। 

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में उच्च शिक्षा विभाग को मिले इतने कार्मिक, सीएम ने दिए नियुक्ति पत्र

खनन रोकने के लिए गए अधिकारियों पर डंपर चढ़ाने की घटना हो या थाना स्तर पर अवैध खनन की जुगलबंदी अथवा थाना चौकियों मे माफिया की सीधी घुसपैठ सब कांग्रेस के कार्यकाल की घटनाएं रही है। इसके अलावा राज्य में भय का माहौल माफिया ने तैयार किया था। फर्जी कागजात तैयार कर आम जन की जमीनों को हड़पने का खेल सत्ता के इशारे पर हो रहा था।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बिग ब्रेकिंग) उत्तराखंड मे बड़ी संख्या मे वन क्षेत्राधिकारीयों के स्थानांतरण,देखिये सूची

चौहान ने कहा कि भर्ती घोटाले के आरोपी सलाखों के पीछे है और यह सब पारदर्शी नीति तथा धामी सरकार के मजबूत साहस से ही संभव हुआ। अपराधियों की कुंडली जाँचकर उन्हे कानून के दायरे मे लाया जा रहा है। फ्रॉड के आरोपी आज उत्तराखंड मे कोई अपराध कर रहा है तो दूसरे राज्यों से भी उसे कानून के शिकंजे मे लाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें 👉  रोडवेज बसों में दिव्यांगों को नहीं दी जा रही सीटें, आयुक्त ने दिए ये निर्देश

चौहान ने कहा कि अपराधियों पर कड़ी कार्यवाही के लिए सरकार ने पुलिस को दबाव मुक्त कार्य करने का पूरा समर्थन दिया है। अब किसी को थाना चौकी मे रिपोर्ट दर्ज करने के लिए भटकना नही पड़ता, बल्कि शासन प्रशासन से लेकर पुलिस जनता के बीच है। धामी सरकार मे कानून का पूरा पालन करते हुए अपराधियों से मुक्त उत्तराखंड की दिशा मे कार्य हो रहा है।