116 वीं जयंती पर याद किए गए भगतसिंह,6 दिन तक चले कार्यक्रमों का हुआ विधिवत समापन…………….

ख़बर शेयर करें -

चन्द्रशेखर जोशी

रामनगर-शहीद ए आजम भगतसिंह की 116 वीं जयंती पर 6 दिनों तक चले कार्यक्रमों का आज विधिवत समापन हो गया।समापन कार्यक्रम किसान इंटर कालेज पीरुमदारा में विभिन्न कार्यक्रमों के साथ हुए। कार्यक्रम की शुरुआत भगतसिंह के चित्र पर माल्यार्पण से हुई। फिर 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के अज़ीमुल्ला खां द्वारा लिखे प्रयाण गीत हम हैं इसके मालिक हिंदोस्तान हमारा व सरफरोशी की तमन्ना गीत गाया गया।

जवाहरलाल नेहरू की पुस्तक डिस्कवरी ऑफ इंडिया पर बने सीरियल भारत एक खोज के प्रथम एपिसोड भारत माता की जय को देखा गया।अपनी बातचीत रखते हुए मुख्य अतिथि नेवलगांव, सल्ट महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो बी एम पांडे ने बच्चों को विस्तार से आजादी के आंदोलन के बाबत समझाया।रचनात्मक शिक्षक मंडल के संयोजक नवेंदु मठपाल ने कहा विगत दस वर्षों से ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से शिक्षक मंडल स्कूली बच्चों को आजादी के आंदोलन के संग्रामियों से रुबरू कराने का प्रयास कर रहा है ।भगतसिंह ब्रिटिश साम्राज्यवाद विरोधी मुक्ति संघर्ष के उन समस्त वीर नायकों में से अग्रणीय रहे जिन्होंने आजादी की बालिवेदी पर अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया जिनकी याद भारतीय जनमानस के दिलों में हमेशा जिंदा रहेगी।एक जज्बाती इंकलाबी के रूप में अपनी राजनीतिक जिंदगी शुरू करने वाले भगतसिंह अपने शुरुआती अस्पष्ट विचारों को को चंद वर्षों में ही क्रमश गहन वैज्ञानिक और प्रखर विचारधारा में ढालते चले गए।

यह भी पढ़ें 👉  मुख्यमंत्री ने सुनी जनसमस्याएं, अफसरों को दिए ये निर्देश

कार्यक्रम संयोजक किसान इंटर कालेज के प्रधानाचार्य हरेंद्र सिंह चौहान ने कहा भगतसिंह के विचार भारतीय समाज को हमेशा रास्ता दिखाते रहेंगे।
कार्यक्रम के दौरान हर्षिता आर्या,महक,वंशिका,बलजीत सिंह द्वारा भगतसिंह के लेखों विद्यार्थी और राजनीति,अछूत समस्या,सांप्रदायिक दंगे और उनका इलाज,असेंबली हाल में फेंका गया पर्चा का वाचन भी किया गया। उपस्थित बच्चों को भगतसिंह के जीवन व कार्यों पर गौहर रजा निर्देशिडाक्यूमेंट्री इंकलाब दिखाने के साथ साथ आजादी के आंदोलन के क्रांतिकारी पक्ष को उजागर करती डाक्यूमेंट्री भी दिखाई गई।इस दौरान आजादी के आंदोलन के संग्रामियों के जीवन पर केंद्रित पुस्तकों के साथ साथ विशेष रूप से नेशनल बुक ट्रस्ट,एकलव्य जैसे प्रकाशकों की बाल साहित्य पर केंद्रीय पुस्तकों की प्रदर्शनी भी लगाई गई।कार्यक्रम के अंत में प्रतिभागी बच्चों को भगतसिंह के जीवन व लेखों से संबंधित साहित्य भी दिया गया।इस मौके पर नवेंदु मठपाल,प्रधानाचार्य हरेंद्र चौहान,रीना रावत, लक्ष्मी आर्या,भारती मिश्र,भावना नेगी, सविता बिष्ट,संतोष रावत,गौरव आर्या,भुवन सत्यवली,कुलदीप चन्द,कमला भट्ट,सरिता लोहनी,प्रियंका पंत आदि मौजूद रहे।