चारों धामों में श्रद्धालुओं की क्षमता का रखें ध्यान, न होने पाए अधिक भीड़ः एडीजी

ख़बर शेयर करें -

देहरादून। प्रचलित चारधाम यात्रा-2024 के दौरान यातायात को सुचारु एवं सुव्यवस्थित रुप से संचालित कराये हेतु अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था ने चारधाम यात्रा एवं आगामी बुद्ध पूर्णिमा स्नान पर्व के दृष्टिगत जनपद प्रभारियों द्वारा यातायात व्यवस्था के सुचारु रुप से संचालन के सम्बन्ध में की गयी तैयारियों की समीक्षा की गयी। 

 अपर पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था उत्तराखण्ड द्वारा निर्देश दिये की वरिष्ठ/पुलिस अधीक्षक, रुद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, पौड़ी, टिहरी, देहरादून एवं हरिद्वार चारधाम यात्रा हेतु राज्य में आये श्रृद्धालुओं एवं उनके वाहनों आदि के सम्बन्ध में लगातर आपसी समन्वय करते हुए उच्चाधिकारियों को वस्तुस्थिति से अवगत कराना सुनिश्चित करें, ताकि चारों धामों में श्रृद्धालुओं की क्षमता से अधिक भीड़ न हो सके।

यह भी पढ़ें 👉  विस अध्यक्ष ने सीएम से की मुलाकात, कई मुद्दों पर हुई चर्चा

 श्रीकेदारनाथ, श्री बद्रीनाथ, श्री गंगोत्री एवं श्री यमुनोत्री धामों में श्रृद्धालुओं की अत्यधिक भीड़ एवं यातायात का दबाव बढ़ने पर यात्रियों को श्रीनगर, चम्बा, ऋषिकेश, हरबर्टपुर एवं हरिद्वार में श्रृद्धालुओं के रोके जाने हेतु चिन्हित स्थलों पर रोकने की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये। साथ ही होल्डिंग एरिया की संख्या में भी वृद्धि की जाये। सभी जनपद प्रभारी अपने-अपने जनपदों में निर्धारित स्थलों पर रोके गये श्रृद्धालुओं को चारधाम यात्रा हेतु एक साथ न छोड़कर बैच बनाकर छोड़ना सुनिश्चित करें। चारधाम यात्रा मार्ग अपंजीकृत श्रृद्धालुओं के सम्बन्ध में अलग-अलग स्थानों पर चैकिंग कराते हुए अपंजीकृत श्रृद्धालुओं को वापस किये जाने की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये। 

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा अग्निकांड पर सीएम का कड़ा रवैया, अनुपालन की मांगी रिपोर्ट

चारधाम यात्रा मार्ग पर रोके गये यातायात से स्थानीय लोगों को असुविधा न हो इस हेतु उनके वाहनों एवं आवश्यक वस्तुओं के वाहनों के आवागमन के लिये ग्रीन पैसेज की व्यवस्था की जाये। वरिष्ठ/पुलिस अधीक्षक, रुद्रप्रयाग, चमोली एवं उत्तरकाशी अपने-अपने जनपदों में नियुक्त किये गये पुलिस बल के डयूटी चार्ट का पुनः गहनता से अवलोकन कर पुलिस बल का अधिक से अधिक सदुपयोग कराना सुनिश्चित करेंगें। साथ ही अपने-अपने जनपदों में पुलिस बल को रिजर्व के रुप में भी रखेगें।