न्याय पंचायत स्तरीय खेल महाकुंभ-2023 का कुंवरपुर से हुआ शुभारंभ

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में न्याय पंचायत स्तरीय खेल महाकुंभ-2023 का कुंवरपुर न्याय पंचायत से राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (से.नि.) गुरमीत सिंह और जनपद प्रभारी व खेल मंत्री रेखा आर्या ने विधिवत शुभारंभ किया। इसके बाद खिलाड़ियों ने शानदार मार्च पास्ट किया। विभिन्न स्कूली छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां प्रस्तुत की।

राज्यपाल गुरमीत सिंह ने सभी खिलाड़ियों को शुभकामनायें दी। लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल के जन्म दिवस पर खेल विभाग की ओर से रन फॉर यूनिटी दौड़ का आयोजन भी किया गया। जिसमें प्रथम मेघा गोस्वामी, द्वितीय रूचि अधिकारी तथा तृतीय अवनि चन्द्र के साथ ही फाइनल 800 मीटर दौड में प्रथम विकास सिंह, द्वितीय गौरव रावत तथा तृतीय नीरज बिष्ट को  न्याय पंचायत स्तर के विजयी खिलाड़ियों को राज्यपाल ने मेडल, प्रशस्तिपत्र के साथ ही नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया। खिलाड़ियों को सम्बोधित करते हुये राज्यपाल गुरमीत सिंह ने कहा कि भारत का युवा पूरी दुनिया में बड़ी ताकत के रूप में उभर रहा है। उन्होंने कहा कि सपने बड़े-बड़े देखने चाहिए और उन सपनों को आपके लक्ष्य को एक विजन एवं संकल्प के साथ अपने जीवन में परिवर्तित करना होगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के बच्चे प्रतिभा के धनी हैं, आप जो संकल्प अपने जीवन में अवतरित कर लेंगे तो आपको सिद्धि अवश्य मिलेगी।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर-(उत्तराखंड) सुरक्षा संवर्ग और आईटी संवर्ग के लिए 58 पदों के लिए होगी नियुक्ति,मिली स्वीकृति

उन्होंने कहा कि राष्ट्र के निर्माण में लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल के योगदान को कभी भुलाया नही जा सकता है। उनके नेतृत्व व प्रशासनिक क्षमता से ही भारत में विलीनीकरण करके भारतीय एकता का निर्माण किया। आज राष्ट्र इस दिवस को एकता दिवस के रूप में मना रहा है। खेल मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि सरकार ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में शिक्षा के साथ खेलों में भी विद्यार्थियों को जोड़ने का प्रयत्न किया है। खेलने से जहां हम तनाव मुक्त होते हैं तो वहीं हम अपने जीवन मे अनुशासन भी सीखते हैं। कहा कि आज के दौर में खिलाड़ियों के लिए खेल का दायरा महज मनोरंजन और फिटनेस तक सीमित नहीं रहा, बल्कि अब इसमें खिलाड़ियों को सुनहरा करियर नजर आ रहा है। जिसके लिए हम प्रयत्नशील हैं और लगातार कई योजनाओं को धरातल पर उतारा गया है। इस दौरान खेल मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि जिस प्रकार से महाकुंभ में स्नान कर तन-मन की स्वच्छता होती है, उसी प्रकार खेल महाकुंभ से भी स्वस्थ प्रतिभाएं उभर कर सामने आती हैं। खेल महाकुंभ के आयोजन की यही परिकल्पना है कि न्याय पंचायत स्तर से प्रतिभाओं को अवसर देते हुए विकासखंड, जिला स्तर और राज्य स्तर तक मंच प्रदान करना है।

यह भी पढ़ें 👉  कांवड़ यात्रा: दुकानों पर नेमप्लेट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की अंतरिम रोक

उन्होंने कहा कि खेल विभाग की कोशिश है कि बच्चों को अवसर प्राप्त होते रहें। विभिन्न आयु वर्ग के बच्चों को उनकी प्रतिभा अनुसार खेलो में प्रतिभाग करने के लिए मंच देने का कार्य किया जा रहा है, खेल महाकुंभ उसी का परिचायक है। कहा कि आने वाला समय खेल के दृष्टिकोण से उत्तराखंड का हो तथा यही बच्चे राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश तथा प्रदेश का नाम ऊंचा करें इसी दिशा में खेल विभाग द्वारा गंभीरता से प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूर्व में न्याय पंचायत स्तर पर विजेता खिलाड़ियो को सिर्फ प्रशस्ती पत्र मिलता था, लेकिन अब उन्हें नगद धनराशि भी दी जा रही है। साथ ही कहा कि राज्य स्तर पर जो भी खिलाड़ी राष्ट्रीय खेल रिकॉर्ड को तोड़ेंगे उन्हें 1 लाख रुपये की नगद धनराशि दी जाएगी। इस अवसर पर लालकुआं विधायक मोहन बिष्ट, निदेशक खेल एवं युवा कल्याण जितेंद्र सोनकर, कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत, डीआईजी कुमाऊं योगेंद्र सिंह रावत, डीएम वंदना, एसएसपी प्रह्लाद मीणा, अपर जिलाधिकारी शिव चरण द्विवेदी, संयुक्त निदेशक युवा कल्याण अजय अग्रवाल, जिला युवा कल्याण अधिकारी प्रतीक जोशी, सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह सहित बच्चे और खिलाड़ी मौजूद रहे।