डेंगू पीड़ित युवती की मौत, परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर लगाए यह गंभीर आरोप

ख़बर शेयर करें -

देहरादून। डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। यहां दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती डेंगू पीड़िता की मौत हो गई। इस पर परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ जमकर आक्रोश जताया। प्रबंधन पर गलत इंजेक्शन देने और शव गायब करने का आरोप भी है।

दून में डेंगू की रोकथाम के लिए किए गए प्रयास विफल साबित हो रहे हैं। ऐसे में बड़ी संख्या में लोग डेंगू की चपेट में आ रहे हैं। साथ ही इससे लगातार मौतें भी सामने आ रही हैं। इधर दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती एक युवती की बुधवार को मौत हो गई।  शहर कोतवाली पुलिस के अनुसार, जौनसार निवासी निशा डेंगू बुखार से पीड़ित थी। अधिक बुखार के चलते उसे सहिया के अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर- हल्द्वानी से पहाड़ जाने के लिए अंडरपास बनाने की योजना, निरीक्षण

युवती की प्लेटलेट्स 24 हजार तक पहुंच गई थी। इसके बाद उसे ग्राफिक एरा अस्पताल में लाया गया, जहां से उसे दून अस्पताल रेफर किया गया था। परिजनों ने का आरोप है कि नर्स ने इंजेक्शन लगाया और तुरंत ही निशा की मौत हो गई। इसके बाद पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवा दिया। शव को वार्ड में न देख परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर शव को गायब करने का अरोप लगाया। वहीं, युवती की मौत के बाद बड़ी संख्या में क्षेत्र के लोग अस्पताल में इकट्ठा हो गए और जमकर हंगामा किया। फिलहाल पुलिस स्थिति को संभालने में जुटी।