मंडलायुक्त ने की विकास प्राधिकरण के कार्यों की समीक्षा, अफसरों को दिए यह निर्देश

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। सर्किट हाउस काठगोदाम में जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण की बैठक लेते हुये आयुक्त/अध्यक्ष जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण दीपक रावत ने कहा कि प्राधिकरण द्वारा पुनर्निर्माण, आवासीय व कामर्शियल आदि मानचित्रों की जो स्वीकृति प्रदान की जाती है, उसी उपयोग के लिए इस्तेमाल की जाए। इसके लिए प्राधिकरण के अधिकारी नियमित मानिटरिंग करें। प्राधिकरण की स्वीकृत मानचित्र के अनुरूप उपयोग ना करने पर सम्बन्धितों के खिलाफ कार्यवाही की जाए।

जिला विकास प्राधिकरण अध्यक्ष श्री रावत ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्र नैनीताल व भीमताल शहर को छोड़कर अन्य पर्वतीय स्थानों के साथ जनपद में कामर्शियल भवनों में पार्किग निर्माण में जोर देते हुये कहा कि कामर्शियल भवनों की स्वीकृति तभी दी जाए जब उक्त कामर्शियल भवन में पार्किंग सुविधा हो। बोर्ड बैठक में प्राधिकरण के माध्यम से संचालित होने वाली विकास योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की गई।  जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण की 21वीं बोर्ड बैठक में विकास प्राधिकरण द्वारा  नैनीताल शहर के 11 सार्वजनिक शौचालयों का विभिन्न स्थानो पर निर्माण किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  गुरू पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं ने पवित्र गंगा नदी में लगाई डुबकी, पूजा-अर्चना

उक्त शौचालयों को नगर पालिका परिषद नैनीताल को हस्तान्तरण हेतु बैठक में संस्तुति की गई। जिस पर आयुक्न ने कहा अनुबंध के आधार पर शौचालयों का संचालन किया जाए और प्राधिकरण के साथ ही नगर पालिका के अधिकारी नियमित साफ-सफाई आदि की मानिटरिंग भी करना सुनिश्चित करें।  नैनीताल शहर निवासी दिनेश चन्द्र सूंठा द्वारा क्लेयर माउण्ट टिफन टॉप स्थित भवन के पुनर्निर्माण के प्रस्ताव वर विचार विमर्श कर उसी भवन की नींव पर पुननिर्माण की अनुमति समस्त औपचारिकतायें पूर्ण कराते हुये वूडन से बनाने की स्वीकृति प्रदान किये जाने की संस्तुति दी।

यह भी पढ़ें 👉  रामनगर- युवक की संदिग्ध परिस्थिति में मौत, पेड़ में लटका मिला शव

सिद्वार्थ साह एब्रीबिल अयारपाटा मल्लीताल विद्यमान दो मंजिले भूतल पर स्टाफ र्क्वाटर पुनर्निर्माण के सम्बन्ध में स्थलीय निरीक्षण की आख्या के उपरान्त संस्तुति हेतु प्रेषित करने के निर्देश बैठक में दिये गये। दिनेश सांगुडी भीमताल महायोजना में उद्योग भू उपयोग के अन्तर्गत भूखण्ड में दुकान एवं रैस्टोरेंट की अनुमति चाही गई जिस पर स्थलीय निरीक्षण के उपरान्त आख्या पर संस्तुति प्रदान करने की अनुमति दी गई। बैठक में जिलाधिकारी वंदना, मुख्य नगर आयुक्त पंकज उपाध्याय, सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह, मुख्य नगर एवं ग्राम निदेशक शशि मोहन श्रीवास्तव,अधिशासी अभियंता जल निगम एके कटारिया,सीएफओ पूजा नेगी, अधिशासी अभिंयता लोनिवि अशोक चौधरी,रतनेश सक्सेना के साथ ही जिला विकास प्राधिकरण के सदस्य उपस्थित थे।