बारिश का कहर- कुमाऊं में कई जगह भूस्खलन, जगह-जगह फंसे यात्री

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में लगातार हो रही भारी बारिश ने जगह-जगह तबाही मचाई है। कुमाऊं में बारिश के चलते चम्पावत में एनएच समेत कई सड़कें बंद हो चुकी हैं। जिससे लोग जहां-तहां फंसे हुए हैं। 

बारिश के बीच चंपावत के एनएच पर स्वांला पर फिर से मलबा आने से यातायात बाधित हो गया है। मलबा आने से करीब 250 यात्री भारी बारिश में फंस गए हैं। प्रशासन ने एहतियात के तौर पर टनकपुर के ककराली गेट पर चंपावत की तरफ जाने वाले वाहनों को रूक दिया है। टनकपुर एसडीएम आकाश जोशी के नेतृत्व में प्रशासन की टीम खाने के पैकेट और पानी की बोतल समेत अन्य जरूरी सामान के साथ मौके पर रवाना हो गए हैं। 

यह भी पढ़ें 👉  रोडवेज बसों में दिव्यांगों को नहीं दी जा रही सीटें, आयुक्त ने दिए ये निर्देश

 पिथौरागढ़ जिले में मूसलाधार बारिश जारी है। मूसलाधार बारिश के कारण मालबा आने से जिले की 20 सड़कें बंद हैं। धारचूला तवाघाट गुंजी सड़क बंद होने से स्थानीय लोगों के साथ ही कुछ पर्यटक भी फंसे हुए हैं। सड़कें बंद होने से लोगों को पैदल आवागमन करना पड़ रहा है। कई स्थानों पर पहाड़ी से पत्थर गिरने का खतरा बना हुआ है। 

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर-उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने इस संस्थान मे निकाली बम्पर भर्तियां,ये है आवेदन की तिथि

लगातार हो रही बारिश के कारण धारचूला में काली नदी का जल स्तर चेतावनी लेवल से ऊपर जा चुका है। गाड़ गधेरे भी उफान पर हैं। प्रशासन ने लोगों से नदी किनारे न जाने की अपील की है। बारिश के बाद जिले में चार ग्रामीण सड़कें बंद हैं, इससे आठ हजार से अधिक की आबादी को परेशानी झेलनी पड़ रही है।