अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर चल रहे कार्यक्रमों का सभा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन

ख़बर शेयर करें -

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर चल रहे कार्यक्रमों का सभा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन

महिला एकता मंच द्वारा 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 8 मार्च को पैठ पड़ाव से प्रारंभ कार्यक्रमों का 10 मार्च को ग्राम सुंदरखाल में सभा के पश्चात आज ग्राम हिम्मतपुर डोटियाल में सभा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन किया गया।

सभा का संचालन करते हुए मंच की संयोजक ललिता रावत ने कहा कि कि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हम महिलाओं के लिए कोई अनुष्ठान नहीं बल्कि अपने संघर्षों की विरासत को आगे बढ़ाने एवं अपनी पूर्वज महिलाओं के संघर्षों को याद करने का दिन है। उन्होंने कहा कि महिलाएं आज विज्ञान, तकनीक, शिक्षा स्वास्थ्य समेत सभी क्षेत्रों में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं इसके बावजूद भी हम महिलाओं को समाज में वो स्थान नहीं मिल पाया है जिसकी हम हकदार हैं।

यह भी पढ़ें 👉  पुलिस को मिली सफलता- चोरी की 6 बाइकों के साथ तीन चोर गिरफ्तार

नीलू रस्तोगी ने 8 मार्च को सार्वजनिक अवकाश घोषित की जाने की मांग करते हुए कहा कि सरकार सभी तीज-त्योहारों पर अवकाश देती  है परंतु  8 मार्च जो हम महिलाओं की संघर्षों की विरासत को आगे बढ़ाने का दिन है, इस दिन को सार्वजनिक अवकाश घोषित नहीं किया जाना देश सरकारों की पुरुष प्रधान मानसिकता को उजागर करता है।

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग-(काशीपुर) फर्जी NCERT किताबो के कवर छापने की अवैध फैक्ट्री का भंडाफोड़

प्रगतिशील महिला एकता केंद्र की शीला शर्मा ने कहा कि समाजवाद में ही महिलाओं को वास्तविक रूप से बराबरी का अधिकार मिल सकता है।

विद्यावती शाह ने कहा कि सरकार द्वारा दिया गया बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देश की आधी आबादी के साथ छलावा है उन्होंने कहा कि ना महिलाएं घर में सुरक्षित है और ना ही घर के बाहर। उन्होने कहा कि हम देशवासियों व महिलाओं को जो भी अधिकार मिले हैं वह संघर्षों के दम पर ही मिले हैं उत्तराखंड राज्य भी का निर्माण भी संघर्षों की ही देन था तथा देश से अंग्रेज भी जनता के संघर्षों की वजह से ही देश छोड़ने के लिए विवश हुए थे अतः हम सभी को संघर्षों की परंपरा और विरासत को आगे बढ़ाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें 👉  आश्चर्यजनक-बाघ पर भारी पड़ा सांड,फिर,दुमदबाकर जंगल में भागा,वीडियो वायरल

कार्यक्रम में महिलाओं ने नृत्य नाटिका एवं गीत भी प्रस्तुत किये।

सभा को तुलसी बेलवाल, कौशल्या चुनियाल, सरस्वती जोशी, किसान संघर्ष समिति के ललित उप्रेती, संजय मेहता, मयंक मैनाली, समाजवादी लोक मंच के मुनीष कुमार आदि ने संबोधित किया।