उत्तराखंड के इस हाइवे खोल रहे मजदूरों पर गिरे बोल्डर, हजारों यात्री फंसे

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में बारिश के बाद उत्पन्न हुई मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। बदरीनाथ हाईवे में एक बार फिर भूस्खलन हुआ है। यहां पहले से बंद मार्ग को खोल रहे मजदूरों के ऊपर ही बोल्डर गिरने से लगे। मजदूरों ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। 

जोशीमठ के समीप बंद बदरीनाथ हाईवे पर फिर से मलबा आने से पैदल आवाजाही भी मुश्किल हो गई है। हाईवे बंद हुए आज तीसरा दिन है। मौके पर ड्रि्लिंग मशीन के ऊपर भी भारी बोल्डर गिर गया। दूसरे दिन भी बदरीनाथ हाईवे नहीं खुलने से यात्रियों ने वाहनों में रात गुजारी। आज तीसरे दिन भी हाईवे की स्थिति नहीं सुधरी। बीआरओ बोल्डरों को हटाने में जुटा है। करीब 3000 तीर्थयात्री यहां फंसे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  पुस्तक ‘आशा और उपचार’ का राज्यपाल ने किया विमोचन, कही ये बड़ी बात

जोशीमठ चुंगीधार के पास चट्टान टूटने से मलबा-बोल्डर आने से बंद हुआ बदरीनाथ हाईवे नहीं खुल पाया। कल गत दिवस बुधवार को दूसरे दिन हाईवे बंद होने से जोशीमठ और पीपलकोटी की ओर करीब 3000 तीर्थयात्री फंसे रहे। प्रशासन की ओर से तीर्थयात्रियों को 3500 से अधिक खाद्यान्न पैकेट वितरित किए गए। 

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर-जल लेने गौमुख नहीं जा पाएंगे कांवड़िये

हाईवे खुलता न देख कई तीर्थयात्री आसपास के होटलों में चले गए जबकि कई तीर्थयात्रियों ने वाहनों में ही रात बिताई। वहीं बीआरओ की टीम हाईवे खोलने में जुटी है। जेसीबी मलबे को हटा रही थी कि पूर्वाह्न 11 बजे इसी स्थान पर चट्टान का बड़ा हिस्सा टूटकर हाईवे पर आ गया। इससे हाईवे का करीब पांच मीटर हिस्सा भी ध्वस्त हो गया। ऐसे में यहां हाईवे के दोनों तरफ करीब 3000 तीर्थयात्री फंस गए।