सिकल सेल एनिमिया रोकथाम के प्रति सरकार गंभीरः डॉ. धन सिंह रावत

ख़बर शेयर करें -

श्रीनगर/देहरादून।  विश्व सिकल सेल दिवस के अवसर पर आज से प्रदेशभर में सिकल सेल जनजागरूकता पखवाडा मनाया जायेगा, जिसका विधिवत शुभारम्भ सूबे के स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने राजकीय मेडिकल कॉलेज श्रीनगर से किया।

इसके साथ ही प्रदेशभर के समस्त राजकीय चिकित्सा ईकाईयों एवं जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर लगाये गये, जिनमें 0-40 आयु वर्ग के लगभग दो हजार लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें सिकल सेल एनिमिया रोग का उपचार व बचाव संबंधी जानकारी दी। इसके अलावा प्रदेशभर में सिकल सेल एनिमिया के प्रति जनजागरूकता अभियान चलाये गये। 

यह भी पढ़ें 👉  रोडवेज बसों में दिव्यांगों को नहीं दी जा रही सीटें, आयुक्त ने दिए ये निर्देश

राजकीय मेडिकल कॉलेज श्रीनगर में विश्व सिकल सेल दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित जनजागरूकता कार्यक्रम में सूबे के स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने बताया कि प्रदेश में सिकल सेल रोग के उन्मूलन के प्रति राज्य सरकार खासी गंभीर है। उन्होंने कहा कि सिकल सेल की रोकथाम हेतु माइक्रो प्लान तैयार कर प्रभावी कदम उठाये जा रहे हैं।

विभागीय मंत्री ने कहा कि प्रदेशभर में आगामी 03 जुलाई 2024 तक विश्व सिकल सेल जागरूकता पखवाड़ा मनाया जायेगा, जिसके सफल आयोजन के लिये स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दे दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि विश्व सिकल सेल जागरूकता पखवाड़ा के माध्यम से प्रदेशवासियों को सिकल सेल एनिमिया रोग के प्रति जागरूक किया जायेगा। 

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर- बोले सीएम धामी- उत्तराखंड में अग्निवीरों को मिलेगा आरक्षण

डा. रावत ने बताया कि आगामी 3 जुलाई तक आयोजित सिकल सेल जागरूकता पखवाड़ा के तहत आशा कार्यकत्रियों, सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों एवं आरकेएसके काउंसलर के माध्यम से जनजातीय समुदाय के 15 हजार लाभार्थियों की स्क्रीनिंग, 17 हजार काउंसिलिंग कार्ड का वितरण तथा 13 लाख से अधिक लोगों को सिकल सेल एनिमिया के प्रति जागरूक करने का लक्ष्य रखा गया है।

जिसके सापेक्ष प्रथम दिन आज प्रदेशभर में लगाये गये स्वास्थ्य शिविरों के माध्यम से लगभग 1880 लाभार्थियों की स्क्रीनिंग की गई साथ ही 569 लोगों को काउंसिलिंग कार्ड वितरित किये गये। जबकि जनजागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से हजारों लोगों को सिकल सेल रोग के प्रति जागरूक किया गया है। उन्होंने बताया कि सिकल सेल अभियान को धार देने के लिये समय-समय पर मॉनिटिरिंग के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये गये हैं।