हल्द्वानी में चौराहा चौड़ीकरण की जद में आ रहे पेड़ों का होगा ट्रांसप्लांट

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी शहर में प्रस्तावित 13 चौराहों के चौड़ीकरण की जद में आ रहे पेड़ों के ट्रांसप्लांटेशन और रिलोकशन को लेकर डीएम वंदना ने वन, लोनिवि, राजस्व और ट्रांसप्लांट विशेषज्ञ के साथ कैंप हल्द्वानी में बैठक ली।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए सिटी मजिस्ट्रेट ने जानकारी दी कि ट्रांसप्लांट विशेषज्ञ के साथ सर्वे कर लगभग 40 पेड़ो को चिन्हित कर लिया गया है । इन 13 चौराहों की जद में तकनीकी रूप से संभव पेड़ों को ट्रांसप्लांट का प्रयास किया जायेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि उन्हीं पेड़ो को ट्रांसप्लांट/रिलोकेट किया जायेगा। जिनकी सरवाइव होने की 80 प्रतिशत संभावना रहेगी। 

यह भी पढ़ें 👉  राज्य में कानून व्यवस्था चुस्त दुरुस्त, हर अपराधी कानून के शिकंजे में: चौहान

उन्होंने कहा कि इन चौराहों के चौड़ीकरण से ट्रैफिक में आने  वाले अवरोधक दूर होंगे इसके साथ ही नैनीताल रोड से लगते हुए लगभग 12 पार्कों  की लैंडस्केपिंग भी की जाएगी जिससे यहां से कुमाऊं के अन्य जनपदों की और जाने वाले पर्यटक पहाड़ के स्वरूप से जुड़ाव महसूस कर पाएंगे। बैठक की अध्यक्षता करते हुए डीएम ने कहा कि जिन पेड़ो को ट्रांसप्लांट किया जाना है उनकी डीपीआर तैयार करने के निर्देश ईई लोनिवि को दिए।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand weather-तत्कालिक मौसम पूर्वानुमान,इन जिलों मे तीन घंटे का ऑरेंज अलर्ट

 इसके साथ ही नैनीताल के हाईवे से लगते हुए 12 पार्कों में लैंडस्केपिंग की जाएगी। जिसके लिए पीडब्ल्यूडी को नोडल तथा  वन और नगर निगम को  सहायक नोडल अधिकारी नामित किया है। ट्रांसप्लांटेशन एक बायलॉजिकल प्रोसेस है जिसमें पेड़ को रूट को काट कर केमिकल का छिड़काव किया जाता है। इसके बाद उसमे नई जड़ों को लाया जाता है फिर पैक, लिफ्ट और अन्य जगह ट्रांसपोर्ट किया जाता है।  बैठक में नगर आयुक्त विशाल मिश्रा, डी एफ ओ यू सो तिवारी, एसडीएम हल्द्वानी परितोष वर्मा सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।